आंदोलन की राह पर सहायक पुलिस कर्मी, निकल पड़े सरकार को घेरने, समझाने के बाद लौटे वापस

0
22

गिरिडीह : गिरिडीह जिले के कई सहायक पुलिसकर्मी आरक्षी पद पर नियुक्ति किये जाने की मांग को लेकर शुक्रवार को राजधानी रांची के लिए पैदल ही निकल पड़े। रास्ते में डीएसपी – इंस्पेक्टर व अन्य पदाधिकारियों ने इन्हें रोक दिया। इसके बाद सहायक पुलिसकर्मी सड़क पर जा बैठकर आंदोलन करने लगे। इस खबर पर एसपी अमित रेणु मौके पर पहुंचे और उनके साथ सड़क पर बैठ गए और इन सहायक पुलिसकर्मियों से वार्ता की। एसपी ने इन्हें समझाया कहा कि उनकी हर बातों को सुना जायेगा। पुलिस लाइन में भी एसपी ने इनसे वार्ता की है। फिलहाल जिले के पुलिस कप्तान के समझाने के बाद सभी आंदोलकारी वापस लौट गये है, मगर आंदोलन कर रहे सहायक पुलिस के जवानों ने कहा कि अगर हमारी मागों पर सरकार और प्रशासन ध्यान नही देती है, तो आगे हम फिर आंदोलन को बाध्य होंगे। इधर सहायक पुलिस कर्मियों का कहना है कि गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से निर्गत आदेश के आलोक में राज्य के 12 अतिनक्सल प्रभावित जिलों में 25 सौ सहायक पुलिस कर्मियों की नियुक्ति तीन वर्ष के लिए की गई है। जिसका मानदेय मात्र 10 हजार रुपए है। नियुक्ति के बाद उस वक्त की रघुवर सरकार ने कहा था कि तीन वर्ष सेवा होने के बाद सहायक पुलिस कर्मियों को झारखंड पुलिस में आरक्षी के पद पर सीधी नियुक्ति कर दी जाएगी। इसका विज्ञापन में भी उल्लेख है। इसके बाद भी वर्तमान झारखंड सरकार का रवैया सहायक पुलिस कर्मियों के प्रति काफी उदासीन रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here