बाइक से योजना स्थल पहुंचे उपायुक्त गड़बड़ी पर भड़के

0
21

कोडरमा .पारदर्शिता के साथ मनरेगा कार्यों के क्रियान्वयन के आदेश के बाद भी कुछ इलाकों में अनियमितता बरती जा रही है। शिकायत पर उपायुक्त कोडरमा रमेश घोलप मरकच्चो प्रखंड की विभिन्न पंचायतों में चल रहे मनरेगा योजनाओं का निरीक्षण किया। इस दौरान उपायुक्त ने नावाडीह पंचायत के पिपराडीह,बहादुरपूर तथा पूर्णानगर पंचायत के भगतियाडीह व महुंगाई पंचायत के बरवाडीह में किए गए डोभा निर्माण व बागवानी के चल रहे कार्यों की जांच की। पिपराडीह में रीतलाल साव के एक एकड़ जमीन में मनरेगा द्वारा चल रहे बागवानी कार्य में खुदाई किए गए पिट से सटाकर ट्रेन्च काटे जाने पर नाराजगी व्यक्त की तथा इसके लिए बीपीओ, रोजगार सेवक व पंचायत सेवक को फटकार लगाई। उपायुक्त ने उपस्थित बीडीओ को रोजगार सेवक को हटाने की बात कही। बहादूरपूर में डोभा निर्माण में जेसीबी मशीन के उपयोग की शिकायत पर जब डीसी उक्त स्थल पर पंहुचे तो जमीन मालिक पवन यादव द्वारा उक्त स्थल पर किसी तरह के मनरेगा योजना से इन्कार कर दिया। उसने बताया कि उसने खुद से उक्त जगह पर काम कराया है । वहीं उपस्थित मुखिया, बीपीओ रोजगार सेवक व पंचायत सेवक ने भी उक्त जगह पर कोई योजना नहीं होने की बात कही। जबकि ग्रामीणों ने कहा की उक्त स्थल पर जेसीबी से डोभा का काम कराया जा रहा था। वहीं बिना योजना के मिट्टी खुदाई किये गये स्थल में भी जांच करने तथा जेसीबी को जब्त करने को कहा गया। डीसी ने कहा कि संबंधित भूमि सरकारी प्रतीत होता है। ऐसे में बिना अनुमति के मिट्टी काटने के मामले में कार्रवाई होगी। साथ ही यहां मुखिया, पंचायत सेवक व ग्रामीणों के विरोधाभास को देखते हुए उपायुक्त ने नावाडीह पंचायत में पिछ्ले चार पांच वर्षों में निर्माण किये गये डोभा का जांच का निर्देश दिया। एसडीओ के नेतृत्व में टीम बनाई गई, जो योजनाओं की गहन जांच कर रिपोर्ट देंगे। डीसी ने कहा कि जांच के दौरान सभी मजदूरों का स्टेटमेंट भी लिया जाएगा। मामले में जो भी दोषी पाए जाएंगे उनके विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों द्वारा शिकायत किया गया कि इस इलाके में मनरेगा योजना में दो जेसीबी मशीन का उपयोग किया जाता है। लिहाजा दोनों मशीनों को जब्त कर थाना लाने को कहा गया है। मरकच्चो के उपप्रमुख शमशूल खान के द्वारा मनरेगा में मशीन के उपयोग की गलत शिकायत की गई। शिकायत पर डीसी सड़क खराब होने के बाद भी बाइक से पूर्णानगर पंचायत के भगतियाडीह डोभा जांच के लिए पंहुच गए। वहां मजदूरों को काम करते हुए पाया गया। उपायुक्त ने उपप्रमुख को फटकार लगाते हुए कहा कि वो इसकी जांच कराएंगे और जो भी दोषी होंगे उन पर प्राथमिकी दर्ज होगी। सभी योजनाओं की होगी जांच सतगांवां में भी मनरेगा योजनाओं में अनियमितता की शिकायत उपायुक्त को मिली है। लिहाजा प्रखंड में क्रियान्वित योजनाओं की जांच के लिए डीडीसी, एसडीओ के नेतृत्व में कमेटी बनायी गई है। डीसी ने कहा कि योजनाओं में पारदर्शिता के लिए लगातार निर्देश जारी किया जा रहा है। मनरेगा कार्यों का उद्देश्य लोगों को रोजगार से जोड़ना है, ना कि कुछ लोगों के मिलीभगत से राशि का बंदरबांट करना। ऐसे मामलों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here